Home TV9 अब 1 मिनट में इस टेक्नोलॉजी से होगी कोरोना की जांच, दिल्ली...

अब 1 मिनट में इस टेक्नोलॉजी से होगी कोरोना की जांच, दिल्ली और मुंबई एयरपोर्ट से टेस्टिंग शुरू होंगे

कोविड की तीसरी लहर को लेकर बढ़ती चिन्ता और इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) द्वारा इस अपेक्षित लहर के प्रति सतर्क किए जाने के बीच भारत की अग्रणी उभरती टेक्नालॉजी प्रोटोटाइपिंग एजेंसी, एडवांस सर्विसेज फॉर सोशल एंड एडमिस्ट्रेटिव रिफॉर्म्स (ASSAR) ने दुनिया भर की टेक्नालॉजी और हेल्थकेयर कंपनीज के लिए एप्लीकेशन खोले हैं जो कोविड-19 के इंस्टैंट परीक्षण के लिए टेक्नालॉजी, उत्पाद और सेवाएं (टीपीएस) मुहैया करवाती है. इससे 60 सेकेंड में भरोसेमंद परिणाम मिलेंगे.

इस परीक्षण टेक्नालॉजी की शुरुआत कमर्शियल पायलट की जांच के लिए करने की घोषणा करते हुए कंपनी ने कहा है कि शुरुआत दिल्ली और मुंबई से करेगी जहां अच्छी संख्या में बाहर से आने वाले पायलट मिलने की उम्मीद है. पायलट योजना के तहत देश में आने वाले अंतरराष्ट्रीय पायलट के लिए दो प्रमुख बिन्दुओं – दिल्ली और मुंबई से शुरुआत की जाएगी. इन्हीं दो जगहों पर सबसे ज्यादा विदेश यात्री आते हैं इसलिए भारत में कोविड वायरस के भिन्न रूपांतरों के प्रवेश की संभावना सबसे ज्यादा इन्हीं दो बिन्दुओं से है. इसलिए यहां से शुरुआत के बाद प्रोटोटाइप का विस्तार 12 अन्य टेस्ट वेन्यू (स्थानों) तक किया जाएगा और यह राज्य सरकारों के साथ तालमेल में होगा. इसका मकसद यात्रियों के लिए देश के अंदर और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विमान यात्रा को सुरक्षित बनाना है. यह सब अपेक्षित तीसरी लहर और भविष्य में हो सकने वाले अगले लॉक डाउन से पहले होगा.

ASSAR ने अपने ‘ईज ऑफ डूइंग बिजनेस’ प्रोग्राम के तहत इस पायलट के लिए 10 जुलाई को एपलीकेशन खोला और इस समय स्क्रीनिंग प्रक्रिया के जरिए सक्षम संस्थाओं के साथ ताल-मेल बैठाने की प्रक्रिया में है. यह सब 25 जुलाई तक किया जाना है. इसके बाद चुनी हुई कंपनियां अगस्त 2021 में इसे एजेंसी द्वारा लागू करने के लिए संभारतंत्र और वित्तीय प्लानिंग के काम शुरू करेंगी.

परियोजना की तात्कालिकता और आवश्यकता की चर्चा करते हुए लीड टेक्नोक्रैट श्री अभिजीत सिन्हा, नेशनल प्रोग्राम डायरेक्टर, ईज ऑफ डूंइंग बिजनेस डिविजन, ASSAR ने कहा, “गुजरे 16 महीनों में काफी नुकसान हो चुका है और यह मापने योग्य भी नहीं है. कोविड की दूसरी लहर ने भारी नुकसान पहुंचाया है और देश किसी भी सूरत में एक और सामाजिक-आर्थिक भार झेलने के लिए तैयार नहीं है. परीक्षण की ऐसी टेक्नालॉजी के साथ हमारी कोशिश पहले ही ऐसे कदम उठाने की है जिससे देश को अपेक्षित लहर के साथ एक और लॉक डाउन का सामना न करना पड़े. यही स्थिति सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के परिचालनों की है और उन्हें भी छोड़ा नहीं जा सकता है. इस पायलट से हम ऐसी आवश्यकता की स्थिति में किफायती, तात्कालिक परीक्षण मुहैया करवा सकेंगे.”

उन्होंने आगे कहा, “सभी क्षेत्र और सभी तरह के काम या कारोबार प्रभावी ढंग से घर से नहीं किए जा सकते हैं. खासकर से वो जिनका संबंध राष्ट्रीय सुरक्षा, अनुसंधान निर्माण, विकास क्षेत्र आदि से है. इन पायलट्स के साथ हमारी कोशिश देश की सामाजिक आर्थिक रिकवरी को वापस पटरी पर लाने की है.” घोषित कोविड टेक पायलट के तहत भिन्न एजेंसियों और संस्थाओं के कई स्टेकधारक एकजुट होंगे. इस परियोजना का मुख्य पहलू इसकी शुरुआती योग्यता शर्तों में है और वह है, एकमात्र टेक्नालॉजी जिसके परिणाम तत्काल यानी 60 सेकेंड के अंदर उपलब्ध होंगे और जो उभरते म्यूटेशन तथा कोविड-19 वायरस के रूपांतरों का पता लगा सकते हैं इस आवेदन प्रक्रिया में भाग ले सकते हैं.

अब इतना समय नहीं है कि देश अनुसंधान के लिए वर्षों इंतजार करे और तब वैक्सीन या टेक्नालॉजी तैयार हो. पोलियो के टीके से अलग जिसे भारत पहुंचने में वर्षों लगे और फिर सुदूर आबादी तक पहुंचने में भी दशकों लगे. कोविड-19 टीका और टेस्टिंग टेक्नालॉजी को बढ़ना ही है और इसे वास्तविक समय में पहुंच योग्य होना होगा. प्रौद्योगिकी और सूचना का स्थानांतरण वैश्विक स्तर पर कुछ सेकेंड में होना होता है. इस वैश्विक संकट से निपटने के योग्य होने के लिए यह सब सही अर्थों में होना होगा.

ईज ऑफ डूइंग बिजनेस (डॉट आईएन) एएसएसआई का प्रोग्राम है ताकि सरकार की सहायता से उभरते टेक पायलट्स का आयोजन कर सके. 2016 से यह भिन्न क्षेत्रों में हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की दूरदृष्टि में योगदान कर रहा है और यह अपनाने की बाधा से आगे के काम करता है. और इस तरह प्रोटोटाइप परियोजना या स्टैंडअलोन पायलट के जरिए नीतिगत उद्यमिता के तहत प्रौद्योगिकीय प्रगति मुहैया कराने में वास्तविक सहूलियत मिलती है ताकि भारत में तेजी से विस्तार और व्यावसायीकरण किया जा सके.

SourceTV9 Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Ease of Doing Business: Parliament Clears LLP Amendment Bill; Top Points

New Delhi: The Rajya Sabha on Wednesday cleared the ‘Limited Liability Partnership Amendment Bill’ that aims to accelerate the ‘Ease Of Doing Business’ campaign...

Efficient distribution sector essential for improving ease of doing business: Niti Aayog VC

NEW DELHI: Niti Aayog vice-chairman Rajiv Kumar on Tuesday said a healthy and efficient distribution sector is essential for improving the ease of doing...

President’s address highlights: ‘New parliament building matter of great pride’

President Ram Nath Kovind addressed the nation on the eve of 75th Independence Day. The address was broadcasted from 7pm on the entire national...

PM spells out vision for Independent India@100

In a speech that began with an acknowledgment of the contribution of India’s freedom fighters including Jawaharlal Nehru, outlined recent steps India had taken...